Monday, November 28, 2022
varanasiआईपीएस ए सतीश गणेश वाराणसी के पहले पुलिस कमिश्‍नर बने,एसएसपी अमित पाठक...

आईपीएस ए सतीश गणेश वाराणसी के पहले पुलिस कमिश्‍नर बने,एसएसपी अमित पाठक हुआ का गाजियाबाद तबादला

Vckhabar
Vckhabar
www.vckhabar.in

अखिलेश कुमार मीणा व अनिल सिंह को वाराणसी में तैनाती मिली है

वाराणसी/-सतीश गणेश वाराणसी के पहले पुलिस कमिश्‍नर बनाए गए हैं,वही एसएसपी अमित पाठक का तबादला गाजियाबाद के लिए कर दिया गया है।जबकि अखिलेश कुमार मीणा व अनिल सिंह को वाराणसी में तैनाती मिली है।वाराणसी कमिश्नरेट के पहले पुलिस कमिश्नर के पद पर शासन ने शुक्रवार की सुबह अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) ए सतीश गणेश की तैनाती की है।1996 बैच के आइपीएस ए सतीश गणेश अब तक आगरा में एडीजी जोन के पद पर तैनात थे।वही अब तक डीआईजी/एसएसपी वाराणसी के पद पर तैनात रहे आईपीएस अमित पाठक का तबादला गाजियाबाद किया गया है।कंप्यूटर साइंस से बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले ए सतीश गणेश मूल रूप से बिलासपुर के रहने वाले हैं।इससे पहले वर्ष 2012 में ए सतीश गणेश वाराणसी में डीआईजी रेंज के पद पर तैनात रह चुके हैं।ए सतीश गणेश की गिनती उत्तर प्रदेश के तेजतर्रार,ईमानदार और समय के पाबंद पुलिस अफसरों में की जाती है।वहीं,अब तक डीआईजी/एसएसपी वाराणसी के पद पर तैनात रहे आईपीएस अमित पाठक का तबादला इसी पद पर गाजियाबाद किया गया है।अब तक एडीजी/आईजी रेंज वाराणसी के पद पर तैनात रहे आईपीएस विजय सिंह मीना का तबादला एडीजी सतर्कता अधिष्ठान लखनऊ के पद पर किया गया है।इसके अलावा आईपीएस अखिलेश कुमार मीणा और अनिल सिंह को वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट में संयुक्त पुलिस आयुक्त (जेसीपी) के पद पर तैनात किया गया है।आईपीएस एसके भगत को वाराणसी में आईजी रेंज के पद पर तैनात किया गया है। एसके भगत इससे पहले भी वाराणसी में रह चुके है।लखनऊ और नोएडा के बाद गुरुवार की रात शासन ने वाराणसी और कानपुर में भी पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम को मंजूरी दी थीइसी के तहत अब वाराणसी में आईपीएस ए सतीश गणेश को पुलिस कमिश्नर के पद पर तैनात किया गया है। आईपीएस अमित पाठक ने पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम का स्वागत करते हुए कहा कि पुलिसिंग को और बेहतर बनाने के लिए पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम की मंजूरी एक अच्छी व्यवस्था है। वाराणसी लगभग 40 लाख से ज्यादा की आबादी वाला प्रदेश और देश का एक महत्वपूर्ण जनपद है।पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम का सकारात्मक असर आने वाले दिनों में कानून व्यवस्था के साथ ही यातायात व्यवस्था में भी देखने को मिलेगा। इससे आम लोगो को फायदा होगा।सुविधाएं भी अधिक मिलेंगी।शहरी क्षेत्र में यहां कुल 18 थानें है।जबकि देहात में 10 थानें है।महानगर को जोन में बांटकर अधिकारियों की तैनाती की जाएगी।

join vc khabar
spot_img
  • vc khabar
जरूर पढ़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

More Articles Like This

You cannot copy content of this page