Sunday, December 4, 2022
टॉप न्यूज़Ration Card में फर्जी सदस्यों के नाम जोड़कर कोटेदार दे रहे सरकार...

Ration Card में फर्जी सदस्यों के नाम जोड़कर कोटेदार दे रहे सरकार को चकमा,खुली पोल

Ration Card के साथ ऐसे फर्जीवाडा कर कोटेदार हो रहे मालामाल,खुली पोल मची सनसनी

पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर– खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत सरकार द्वारा पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को सस्ते दर पर राशन उपलब्ध कराने की योजना में भी अब घपला नजर आने लगा है।वितरण प्रणाली में पारदर्शिता रहे इसके लिए सरकार की तरफ से ऑनलाइन व्यवस्था की गई लेकिन तू डाल डाल मैं पात पात की तर्ज पर कोटेदार द्वारा ज्यादातर Ration Card में अवैध तरीके से यूनिट वृद्धि कर दे रहे हैं।या यूं कहें तो ऐसे लोगो का नाम जोड़ दे रहे जिनको वह परिवार जानता ही नही है।ऐसे में अवैध को वैध करार देकर कोटेदार सरकार को चकमा दे रहे हैं।मामले का खुलासा तब हुआ जब एक कार्ड धारक ने इस बात की शिकायत जनसुनवाई पोर्टल पर की।संबंधित विभाग के अधिकारियों की मिली भगत से फल फूल रहे इस घपलेबाजी में कोटेदार को क्लीन चिट दे दी गयी लेकिन शिकायतकर्ता अभी करवाई से संतुष्ट नही इसलिए अब मामला तूल पकड़ने लगा है।आपको बता दे कि वेस्टर्न बाजार स्थित कोटेदार रन्नो देवी जिनका दुकान क्रमांक 10660019 है।शिकायतकर्ता ने शिकायत की है कि उनके पात्र गृहस्थी Ration Card में परिवार के कुल सदस्यों की संख्या 5 होनी चाहिए जबकि कोटेदार ने 4 अन्य लोगो का बायोमैट्रिक डेटा फीड कराकर 4 यूनिट का खाद्यान्न स्वयं लेती रही हैं।देखा जाय तो ऐसे कई कार्ड और भी है जिनमे स्थानीय स्तर के विभागीय अधिकारियों से मिल कर गड़बड़ी कर जरूरतमंदों के खाद्यान्न पर डाका डालने का कार्य हो रहा है और लोग जानकारी होने पर भी इसका विरोध नही कर पा रहे हैं क्योंकि ऐसे कोटेदारों को अधिकारियों का खुला संरक्षण प्राप्त है।इस संबंध में पूछे जाने पर पालिका के एआरओ श्याम लाल ने बताया कि मामला संज्ञान में आने पर जांच कराई जाएगी और कार्रवाई भी होगी।

ration card

VC KHABAR के फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए निचे दिए गये बटन्स पर क्लिक करें FACEBOOK

VC KHABAR के ऑफिसियल ट्विटर अकाउंट को फॉलो करें Twitter

join vc khabar
spot_img
  • vc khabar
जरूर पढ़े

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

More Articles Like This

You cannot copy content of this page