spot_img
26 C
New York
spot_img

Ghazipur News: सड़क दुघर्टना में पीजी कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर की मृत्यु

WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

Published:

spot_img
- Advertisement -

– Advertisement –

पत्रकार राहुल पटेल

गाजीपुर। पी०जी० कॉलेज के कृषि संकाय में जेनेटिक्स एंड प्लांट ब्रीडिंग विभाग के प्राध्यापक डॉक्टर उदय प्रताप पाण्डेय का सोमवार के दिन सड़क दुघर्टना में निधन हो गया। डॉक्टर पाण्डेय डेढ़ दशकों से महाविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर शिक्षण कार्य कर रहे थे। वह 2005 में महाविद्यालय नके साथ असिस्टेंट प्रोफेसर कृषि वनस्पति विज्ञान विभाग के पद पद पर कार्यभार ग्रहण किया था। वह ढोटारी गांव के मूल निवासी थे। रोजाना की तरह कक्षा लेने के बाद डॉक्टर पाण्डेय कहीं जा रहे थे। इसी बीच बबेडी के पास सड़क हादसे का शिकार हो गए। जिसमें उन्हें गंभीर चोटे आई। उन्हें उपचार के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टर ने उन्हें मृत्यु घोषित कर दिया। डॉक्टर पाण्डेय की मृत्यु की खबर मिलते ही पी०जी० कॉलेज परिसर में शोक का माहौल व्याप्त हो गया। प्राचार्य प्रोफ० (डॉ०) राघवेन्द्र कुमार पाण्डेय एवं चीफ प्रॉक्टर प्रोफे० (डॉ०) एस०डी० सिंह ‘परिहार’ की मौजूदगी में महाविद्यालय परिसर में दिवंगत आत्मा की शांति के लिए शोक सभा का आयोजन हुई। शोक सभा में समस्त शिक्षक एवं कर्मचारियों के साथ ही छात्र-छात्राएं भी मौजूद रहीं।दिवंगत आत्मा की शांति के लिए 2 मिनट का मौन भी रखा गया। इस मौके पर प्राचार्य प्रोफ० डॉ० राघवेन्द्र कुमार पाण्डेय ने कहा कि डॉक्टर यू०पी० पाण्डेय एक शिक्षक के तौर पर अपने जिम्मेदारियों के प्रति सदैव सजग रहते थे। उनका असमय जाना महाविद्यालय परिवार के लिए अपूर्णीय क्षति है। महाविद्यालय परिवार दु:ख की इस घड़ी में उनके परिजनों के साथ है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि मंगलवार को स्वर्गीय डॉक्टर पाण्डेय का अंतिम संस्कार होगा। जिसमें शिक्षकों, कर्मचारियों एवं छात्र-छात्राओं के शामिल होने के लिए महाविद्यालय में अवकाश घोषित किया गया है। हालांकि इस बीच विश्वविद्यालय की परीक्षाएं सामान्य समय-सारणी के अनुसार चलती रहेगी। जिन कर्मचारियों और शिक्षकों की ड्यूटी परीक्षा में लगी है। वह परीक्षा विभाग के निर्देशानुसार कार्य करेंगे।

– Advertisement –

- Advertisement -
WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

सम्बंधित ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रिय