Saturday, January 28, 2023
उत्तर प्रदेशचंदौलीबच्चों की सुरक्षा ही हमारी प्राथमिकता और प्रतिबद्धता है- निर्देशक महिला कल्याण-...

बच्चों की सुरक्षा ही हमारी प्राथमिकता और प्रतिबद्धता है- निर्देशक महिला कल्याण- मनोज कुमार राय

Amitesh Kumar Mishra
Amitesh Kumar Mishrahttps://vckhabar.in/
मैं अमितेश कुमार मिश्रा(Amitesh Kumar Mishra) ग्राम -शिवदासीपुर, पोस्ट-शहीदगाँव, जनपद-चंदौली का निवासी हूँ| हमारा उद्देश्य शीर्ष वेब पोर्टल (https://www.vckhabar.in/) के माध्यम से अपनी खबरों द्वारा जनता को सूचना देना, शि‍क्षि‍त करना, मनोरंजन करना और देश व समाज हित के प्रति जागरूक करना है। हम (https://www.vckhabar.in/) ना तो कि‍सी राजनीति‍क शरण में कार्य करते हैं और ना ही हमारे कंटेंट के लिए कि‍सी व्‍यापारि‍क/राजनीतिक संगठन से कि‍सी भी प्रकार का फंड हमें मि‍लता है। युवा पत्रकारों द्वारा शुरू कि‍ये गये इस प्रोजेक्‍ट को भवि‍ष्‍य में और भी परि‍ष्‍कृत रूप देना हमारे लक्ष्‍यों में से एक है। किसी भी प्रकार के खबर/विज्ञापन के लिए आप हमे किसी भी समय +91 9415055028,6306263872 पर काल कर सम्पर्क कर सकते हैं |

चन्दौली- 26 मई 2021
महिला कल्याण विभाग के तत्वाधान से आंगन ट्रस्ट की मदद से मंडलवार बाल गृहों एवं जिला बाल संरक्षण इकाई को कोरोना से बचाव हेतु बाल गृहों में की जाने वाली बेस्ट प्रैक्टिसेज के विषय पर ऑनलाइन प्रशिक्षण प्रदान किया गया. प्रथम फेज में इसमे लखनऊ त्तथा वाराणसी मंडल के अंतर्गत समस्त राजकीय व स्वेक्षिक संगठनों के माध्यम से संचालित बालगृहों और जिला बाल संरक्षण इकाइयों में कार्यरत स्टाफ को प्रशिकचित किया गया। निदेशक महिला कल्याण मनोज कुमार राय द्वारा इस मौके पर कहा गया “मंडलवार यह प्रश्किशन हमारी तैयारी को और मजबूत करेगा, बच्चों की सुरक्षा ही हमारी प्राथमिकता और प्रतिबद्धता है”।
प्रशिक्षण के दौरान लखनऊ मंडल के उप निदेशक सर्वेश कुमार पांडेय ने कहा कि “हमारे यहां प्रतिदिन संस्थाओं में कोविड के प्रभाव की स्थिति की समीक्षा की जा रही है और अभी तक कोई भी अपरिहार्य स्थिति नही हुई है”। वाराणसी मंडल के उपनिदेशक प्रवीण त्रिपाठी ने कहा कि “मंडल स्तर पर सभी अधिकारियों के संपर्क और निर्देशन में हम संस्थाओं की निगरानी कर रहे हैं”। प्रशिक्षण में मुख्य बातें बताई गयी की बाल गृहों में बच्चों को कोरोना से बचाव हेतु सभो सुरक्षित उपाय जिसमे लगातार हाथ धोना, मास्क का उपयोग करना, यथा संभव सामाजिक दुरी का ध्यान रखना, कार्मिकों को रोस्टर ड्यूटी पर रखना जिससे सामाजिक दुरी एवं लोगों से संपर्क कम हो, प्रत्येक बाल गृहों में एक आइशोलेसन कक्ष हो जहाँ नए बच्चों को रखा जा सके, डॉक्टर की उपलब्धता सुनिश्चित किया जाये जिससे किसी भी आपातकाल में शीघ्र मदद मिल सके. इसके साथ ही प्रशिक्षकों द्वारा बच्चों एवं कार्मिकों की मानसिक स्वस्थ्य पर चर्चा किया गया जिसमें बच्चों एवं कार्मिकों को मनोसामाजिक और मनोवैज्ञानिक सहायता प्रदान किया जाये. प्रशिक्षकों द्वारा यह भी बतया गया की कार्मिकों को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की किस बच्चे को इस तरह की सहायता की जरुरत है जिससे की बच्चे को शीघ्र सहायता प्रदान किया जा सके. प्रशिक्षण के दौरान यूनिसेफ से मंडलीय बाल सुरक्षा सलाहकार श्री नीरज शर्मा उपस्थित रहे जिन्होंने बताया की महिला कल्याण विभाग द्वारा लगातार इन बातों की समीक्षा की जा रही है की बाल गृहों में आवासित बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाया जा सके तथा इसे सुनिश्चित एवं सहायता प्रदान करने हेतु राज्य स्तर पर वर्चुअल सपोर्ट ग्रुप भी बनाया है.
प्रशिक्षण में आँगन ट्रस्ट से स्मिता, सी0एस0ए0 से सत्यजीत व प्रथम से स्नेह मुख्य प्रशिक्षण कर्ता हैं। फिनांक 27 से 9 जून के मध्य अन्य मंडलों हेतु यह प्रशिक्षण आयोजित किया जाएगा।

spot_img
spot_img
जरूर पढ़े
Latest News

More Articles Like This

You cannot copy content of this page