spot_img
29.1 C
New York
spot_img

Chandauli news : नगवा बांध टूटने की अफवाह से ग्रामीणों ने किया पलायन, एसडीएम और विधायक ने लिया जायजा

WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

Published:

spot_img
- Advertisement -

Chandauli : लगातार हो रही बारिश के चलते सोनभद्र नगवा बांध के जलस्तर बढ़ने में बढ़ोत्तरी देखने को मिली. जिसके चलते पानी का लेबल मेंटेन करने के लिए पानी को कर्मनाशा नदी में छोड़ दिया गया. जिससे नदी के नौगढ़ इलाके में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई. इस बीच किसी ने अफवाह फैला दी कि बांध टूट गया. जिसके ग्रामीण सहम गए और नदी में पानी बढ़ता देख तटवर्ती इलाके के वनवासी बस्ती के ग्रामीण डूबने के भय से मकान छोड़ दुर्गा मंदिर तीन सेड पहुँच गए. एसडीएम नौगढ़ ने पहुँचकर मौके का जायजा लिया. प्रशासन की तरफ से ग्रामीणों को खाने का पैकेट उपलब्ध कराया. वहीं चकिया विधायक कैलाश आचार्य ने भी मौके पर पहुँचकर लोगों का हाल जाना.

दरअसल बीते दिनों लगातार बारिश के चलते नगवा बांध खतरे के निशान से ऊपर हो गया और जिसके बाद पानी बांध से नदी में छोड़ा गया. बाढ़ की आशंका को देखते हुए तटवर्ती लोगों को अलर्ट कर दिया गया. नदी में बढ़ रहे जलस्तर के बीच किसी ने बांध टूटने की अफवाह फैला दी. जिससे भयाक्रांत लोगों ने बाघी, नैया घाट बनवासी बस्ती के ग्रामीण अपना राशन, बिस्तर एवं अपने जानवर और बच्चों को लेकर सुरक्षित स्थान दुर्गा मंदिर टीन सेड में पहुंच गए.

वहीं जानकारी के बाद देर शाम मौके पर चकिया विधायक कैलाश खरवार पहुंच गए और सभी परिवार से हाल जाना. सभी बनवासियों ने मांग किया कि हम लोगों के पास सड़क और बिजली नहीं है जिससे हम लोगों को काफी सुविधाओं का सामना करना पड़ता है अंधेरे में रात काटनी पड़ती है। उप जिलाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि इन लोगों को भेड़फॉर्म के गेस्ट हाउस या कोई भी सुरक्षित स्थान हो तो वहां पर शिफ्ट कराएं और इन लोगों के भोजन की व्यवस्था तत्काल करें.

उप जिलाधिकारी आलोक कुमार ने नैना घाट में पहुंचकर जलस्तर का जायजा लिया एवं अधिशासी अभियंता नगवा सोनभद्र से वार्ता किया तो पता चला कि बांध में अभी भी पानी कम है. उप जिलाधिकारी ने बताया कि अफवाह फैलने से सभी वनवासी बस्ती के ग्रामीण दुर्गा मंदिर टीन सेड में आ गए खतरे की कोई बात नहीं है. हालांकि जलस्तर बढ़ रहा है वह बरसात का पानी है. वनवासियों से कहा कि आप लोग गंतव्य अपने स्थान को जाएं अगर ऐसी कोई बात होती है तो तहसील प्रशासन पूरा सहयोग करेगा. इसके अलावा लेखपाल भेजकर गिरे हुए मकान का भौतिक सत्यापन कराकर दैविक आपदा सहायतार्थ राशि उपलब्ध कराई जाएगी. सभी ग्रामीणों को भोजन का पैकेट उपलब्ध कराया गया.

- Advertisement -
WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

सम्बंधित ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रिय