spot_img
12.9 C
New York
spot_img

Ghazipur news: महादेवी वर्मा की कविताएँ, कहानियां और संस्मरण पूर्व की भांति आज भी  प्रासंगिक : रुचि मिश्रा

WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

Published:

spot_img
- Advertisement -



  गाजीपुर। स्नातकोत्तर महाविद्यालय, गाजीपुर में पूर्व शोध प्रबन्ध प्रस्तुत संगोष्ठी का आयोजन किया गया। यह संगोष्ठी महाविद्यालय के अनुसंधान एवं विकास प्रकोष्ठ तथा विभागीय शोध समिति के तत्वावधान में महाविद्यालय के सेमिनार हाल में सम्पन्न हुई, जिसमें महाविद्यालय के प्राध्यापक, शोधार्थी व छात्र- छात्राएं उपस्थित रहे। उक्त संगोष्ठी में भाषा संकाय के हिंदी विषय की शोधार्थिनी रुचि मिश्रा ने अपने शोध शीर्षक “महादेवी वर्मा के गद्य साहित्य में मानवीय संवेदना का विशेष अध्ययन” नामक विषय पर शोध प्रबन्ध व उसकी विषय वस्तु प्रस्तुत करते हुए कहा कि छायावादी युग की चर्चित कवयित्री महादेवी जी ने अपनी जिस सहज, सौहार्द और एकांत आत्मीयता की अभिव्यंजना का जो अपूर्व कला-कौशल अपने गद्य रचनाओं में व्यक्त किया है, वह केवल उनकी अपनी ही कला की विशिष्टता की दृष्टि से नहीं बरन संसार- साहित्य की इस कोटि की कला के समग्र क्षेत्र में भी बेमिसाल और बेजोड़ है।  उनकी कृतियाँ मानवीय भावज्ञता, संवेदना और कलात्मक प्रतिभा के अपूर्व निदर्शन की दृष्टि से शाब्दिक अर्थ में अपूर्व और अद्‌भुत कलात्मक चमत्कार के नमूने हैं। महादेवी वर्मा की कविताएँ, कहानियां और संस्मरण आज भी उतने ही प्रासंगिक है, जितना की पहले थे। दशको पुरानी उनकी कविताएँ और संस्मरण आज भी हमे उसी सादगी भरी दुनियां में ले जाते है । रुचि मिश्र ने यह भी कहा कि समाज में व्याप्त भौतिक  सुख-साधनों के बीच रहकर आज का मनुष्य संवेदनाहीन बनता जा रहा है। आज के मनुष्य को किसी के दुःख से किसी की पीड़ा से कोई फर्क नहीं पड़ता, ऐसे निष्ठुर और कठोर हृदय विहीन समाज को महादेवी जी की जीवन्त रचनाओं के माध्यम से जागृत करने की आवश्य‌कता है। प्रस्तुतिकरण के बाद विभागीय शोध समिति, अनुसंधान एवं विकास प्रकोष्ठ व प्राध्यापकों तथा शोध छात्र-छात्राओं द्वारा शोध पर विभिन्न प्रकार के प्रश्न पूछे गए जिनका शोधार्थिनी ने संतुष्टिपूर्ण एवं उचित उत्तर दिया। तत्पश्चात समिति चेयरमैन एवं महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफे० (डॉ०) राघवेन्द्र कुमार पाण्डेय ने शोध प्रबंध को विश्वविद्यालय में जमा करने की संस्तुति प्रदान किया। इस संगोष्ठी में महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफे० (डॉ०) राघवेन्द्र कुमार पाण्डेय, अनुसंधान एवं विकास प्रकोष्ठ के संयोजक प्रोफे० (डॉ०) जी० सिंह, मुख्य नियंता प्रोफेसर (डॉ०) एस० डी० सिंह परिहार, प्रोफे० अरुण कुमार यादव, शोध निर्देशक एवं हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डॉ०) विनय कुमार दुबे, डॉ० संजय कुमार सुमन, डॉ० योगेश कुमार, डॉ० समरेंद्र नारायण मिश्र, डॉ० रविशेखर सिंह, डॉ०राम दुलारे, डॉ० मनोज कुमार मिश्र, डॉ० अतुल कुमार सिंह एवं महाविद्यालय के प्राध्यापकगण तथा शोध छात्र छात्राएं आदि उपस्थित रहे। अंत में अनुसंधान एवं विकास प्रोकोष्ठ के संयोजक प्रोफे० (डॉ०) जी० सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया।

- Advertisement -
WHATSAPP CHANNEL JOIN BUTTON VC KHABAR

सम्बंधित ख़बरें

Ghazipur news: दिलदारनगर हत्या के नियत से चाकू से हमला करने वाले शातिर को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गाजीपुर। दिलदारनगर थाना पुलिस को हत्या के नियत से चाकू से हमला करने वाले अभियुक्त को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई है। उल्लेखनीय...

ताज़ा ख़बरें

राष्ट्रिय